माँ की याद | माँ के लिए कुछ शब्द | mother love | mother love quotes

 करुणामयी मेरी "माँ"

  यह कविता समर्पित है,मेरी- "माँ पूजनीय करुणा जैन" जी के लिए,जिसे,मेने उनकी याद में बनाई है। उन्होंने हर-पल,हर-क्षण, जीवन को मेरे, सजाया है,संवारा है। लेकिन जब उनकी परवरिश को,उनके गहरे प्रेम को प्रकट करने का मोंका आया, तभी अचानक से उनका हमसे दूर जाना सदैव याद आएगा।

   प्रस्तुत कविता मेरे रोम-रोम से निकली,अपने माँ के प्रति उनके आभाव में वेदना,उनकी करुणा,उनकी ममता को प्रस्तुत करती है।

madhuribajpai.comसुरभि जैन कंचन नगर कटँगी जिला जबलपुर मध्यप्रदेश

  आइये "एक बेटी की पुकार, अब लौट आ माँ इस बार",पर समर्पित कविता को आगे पढ़ते हैं.....

"क्या बोलूं मैं तुझे,जो तू लौट आए माँ"
करुणा के,अथाह-सागर से भरी, 
     निश्छल है हृदय तेरा 
"माँ",
छल,कपट न मन में तेरे,
     सच्चा,शुद्ध हृदय तेरा 
"माँ",
न कोई भाषा, तेरे लिए ,
      न कोई परिभाषा 
"माँ",
बस एक एहसास,
      बस एक चाह है 
"माँ",
क्या बोलूं मैं तुझे,जो तू लौट आए माँ.........


न तुलना किसी से, न उपमा किसी की,
       आप तो अपने में ही अनमोल हो "माँ",
बड़ी माँ, छोटी मां, मासी,मामी का भी एक स्थान है,
      लेकिन आपका स्थान तो अलग ही हैं "माँ ",
पिता की छाया , भाई का प्यार , बहन का स्नेह तो हैं ही 
       लेकिन आपकी ममता अमूल्य है "माँ",
क्या बोलूं मे तुझे जो तू लौट आए माँ..........

लुटाया था जीवन पूरा तेरे लिए "माँ",
     फिर भी तूने न सोचा मेरे लिए 
"माँ",
कहती थीं न जी पाऊंगी तेरे बिना,
        फिर भी मैं यही और तू छोड़ चली 
"माँ",
धन्यवाद और माफी का भी समय न दिया तूने,
                ऐसा थोड़े ही होता है 
"माँ",
क्या बोलूं मैं तुझे जो तू लौट आए माँ.….......

लेखिका :- सुरभि जैन
कंचन नगर कटंगी जिला जबलपुर मध्यप्रदेश,

Click here :- जरूर पढ़ें माँ प्यार बहुत अनमोल होता है।

 इसे भी पढ़ें :- एक मुस्कान जीवन बदल देती है,दोस्तों माँ वह चीज है। जो अस्तित्व नया बना देती है।

जरूर click करें :- स्त्री का रहस्य बहुत ही अनमोल है,स्त्री के रहस्य को समझना है तो इस पोस्ट को क्लिक करना है।

नोट :- अगर आपको यह कविता करुणामयी मेरी माँ पसंद आयी है तो इसे शेयर करना ना भूलें और हमसे जुड़ने के लिए आप हमारे Whatsup group में join हो और हमारे Facebook page को like  जरूर करें।आप हमसे Free Email Subscribe के द्वारा भी जुड़ सकते हैं। अब आप इस blue लाइन में क्लिक कर instagram में भी  follow कर सकते हैं ।

लेख पढ़ने के बाद अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करायें। नीचे कमेंट जरूर कीजिये, आपका विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण है।

एक टिप्पणी भेजें

28 टिप्पणियाँ

  1. Maa Shabd ko bayaan krna ....Aasaan nhi humare liye bs hum ise jee skte Maa ki mamta .....Miss krte hai humesha maa ❤️❤️💐💐....

    जवाब देंहटाएं
  2. एक बच्चे का दर्द स्पष्ट झलकता है इस कविता में, जो असमय अपनी माँ को खो देता / देती है। Be continue... Keep it up Dost.

    जवाब देंहटाएं
  3. Maa ke jagah koi ni le.sakta🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. Maa k lie koi sabdh nhi, jeevan ki subse bdi kmi hote h jb maa nhi hote ...kavita to ache h magr jitna likhe utna km h maa k lie🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी कविता मेंआपने मां का असीमित प्यार जो बो बच्चो पर लुटती है उसको अपने दिल की कलम से लिखा है ।एक मां का अपने बच्चो से प्यार और बच्चो की मां के लिए चाहत को आपने शब्दों में लिखने का सुंदर प्रयास किया है।

    जवाब देंहटाएं
  6. क्या कहे न कोई पूरी सकता वो कमी
    न मामी , न मासी, न बड़ी माँ, न छोटी माँ
    न उनके जैसा कोई था, न कोई होगा।
    ऐसी ही होती है माँ

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी कविता से मुझे कुछ ऐसा महसूस हो रहा है जैसे आप मुझसे कुछ छिपा रही हो

    जवाब देंहटाएं
  8. सुरभि मुझे कुछ अहसास हो रहा है कि आप मुझसे कुछ छिपा रही हो सब कुछ ठीक है ना

    जवाब देंहटाएं
  9. Bahut hi pyari lines hain.👌🙏

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति माँ के लिए

    जवाब देंहटाएं
  11. Surbhi ji aapki kavita se aisa lag raha hai jaise aapne mujhse kuchh chhupaya hai sab theek hai na

    जवाब देंहटाएं
  12. Bahut hi sundar likhi ho surbhi 🙏

    जवाब देंहटाएं