धैर्य की शक्ति | धैर्य की कविता | patience quotes



धैर्य धारण करने की क्षमता खुद में समा कर रख
ना घबरा अंधेरों से ना काली रात से
सुबह निश्चित रूप से सुबह होते ही इतना जरूर आता है।

धैर्य की शक्ति |  धीर की कविता |  धैर्य का भाव

ना थकने अपने जीवन से
ना हार आप अपने
दिल
से ये साहस है प्रतिकूल परिस्थितियों से लड़ने का तो जीत भी अवश्य मिलेगी।
धीरज धरना खुद में समा कर रखना ।।

धैर्य की शक्ति |  धीर की कविता |  धैर्य का भाव


दुःख दर्द है तो हमदर्द सभी हैं,

विश्वास में अटूट विश्वास बनाए रखें।
हम साथ हैं सब साथ हैं।
ये विश्वास बनाए रखते हैं,
अक्षमता खुद में समा जाए।

धैर्य की शक्ति |  धीर की कविता |  धैर्य का भाव

श्रेष्ठचिन्तनों से, स्वयं के कदमो से
ज़ंजीर बांध कर रखिए, कभी उल्लंघन ना कर
आज़ादी भी मिलेगी, ख़ुशी से साँस भी
जल्द ही बहुत अच्छी होगी, खुशी भी ज होगी
धैर्यता स्वयं में समा कर रखिए

धैर्य की शक्ति |  धीर की कविता |  धैर्य का भाव

प्रार्थना करो, प्रतीक्षा करो
निश्चित ही उजाले भी होंगे, अंधेरा भी मिट जाएगा,
बड़ी से बड़ी बिमारी ही क्या ???
       महामारी का पतन भी होगा
शुशियों का संसार होगा,
लक्ष्य भी होगा, शक्ति भी साथ होगी
धैर्यता क्षमता खुद में समा कर तो रख ।।

भाव की शक्ति माधुरी बाजपेयी

नोट :- अगर आपको धैर्य की शक्ति | धैर्य की कविता | patience quotes यह लेख पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूलें और मुझसे जुड़ने के लिए आप मेरे Whatsup group में join हो और मेंरे Facebook page को like  जरूर करें।आप हमसे Free Email Subscribe के द्वारा भी जुड़ सकते हैं। अब आप  instagram में भी  follow कर सकते हैं ।

लेख पढ़ने के बाद अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करायें।नीचे कमेंट जरूर कीजिये, आपका विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण है।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

 समझ नहीं आता | purpose of living