भोर की प्रथम मुस्कान का केंद्र | Morning smile| भाव की शक्ति | Center of life's first smile in the morning

 जीवन के स्नेह का प्यारा संदेशा भोर ने ले आई है ।

      स्नेह की गहराई इतनी गहरी है,
      कि सूरज के संग मन सबका जागा है ।।

जब इस सूर्य की प्रथम किरण ने मार्ग दिखाई है ,
  तभी तो आशा,उम्मीद 
को दुनियाँ समझ पायी है ।।

     सब चल पड़े राही,मंजिल की ओर हैं ,
     बस अब चल पड़ना है,कल्पना को वास्तव में करने की  तैयारी है।।

चाहे लक्ष्य यहाँ सबके अलग अलग हैं,
लेकिन हरदम लक्ष्य पाने को सब की तत्पर्यता जारी है।।

     देखों कहीं,निराशाओं की धुंध न रह जाए,
     मंजिल अपनी अपनी सबको मिल जाये।।

भोर का प्रेम, घर- घर में दस्तक दे जाये,
जर्रे - जर्रे में खुशियों की धूप खिल जाये।।

      आइये खुद से, खुद पे संकल्प को बढ़ाते हैं,
      जीवन को भोर की प्रथम मुस्कान का केंद्र बनाते हैं।।

Click here :- जाने कैसे संस्कार सम्पूर्ण मानव जीवन को बदलते हैं???

भाव की शक्ति माधुरी बाजपेयी

नोट :- अगर आपको भोर की प्रथम मुस्कान का केंद्र | Morning smile | भाव की शक्ति | Center of life's first smile in the morning यह लेख पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूलें और मुझसे जुड़ने के लिए आप मेरे Whatsup group में join हो और मेंरे Facebook page को like  जरूर करें।आप हमसे Free Email Subscribe के द्वारा भी जुड़ सकते हैं। अब आप  instagram में भी  follow कर सकते हैं ।

लेख पढ़ने के बाद अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करायें।नीचे कमेंट जरूर कीजिये, आपका विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

 समझ नहीं आता | purpose of living