गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

               "दूधो नहाओ पूतो फलो"

   जीवन मे शरीर की स्वछ करने के लिए भारतीय गाय का दूध कमाल का है ,benefits of cow's milk.भारतीय पूजन पद्धति,भारतीय स्नान पद्धति में प्रकृति के सानिध्य का विशेष ध्यान दिया गया है। इस पद्धति में भारतीय गाय के दूध व दूध से निर्मित पेय पदार्थ, स्नान के पदार्थों का विशेष ध्यान रखा गया है, छोटी से छोटी परंपराओं में इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि ईश्वरीय उपहार मानवीय देह की शुद्धि हेतु भिन्न-भिन्न तरीकों से दूध का उपयोग किया जाता है। इसलिए यदि स्नान करना है,यदि सेवन करना है तो भारतीय जनमानस में दूध को और वह भी गाय के दूध को उपयोगी बताया गया है। use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.
गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

         जब हम बड़ों का आशीर्वाद लेते हैं पुरातन प्रथा के अनुरूप बडी से बड़ी पंक्ति को एक छोटी सी पंक्ति में कह देने की कला भारत की अद्भुत कला है जिसमें बडे हमको

" दूधो नहाओ पूतो फलो का आशीर्वाद देते हैं। यह आशीर्वाद अत्यंत ही वैज्ञानिक है,और यह आशीर्वाद आज भी फलीभूत दिखाई देता है ।"

         संपूर्ण विश्व में भारतीय गाय के दूध से संबंधित अलग-अलग शोध भी आपने पढ़े होंगे। जिसमें स्वीकार किया गया है कि दुनिया में दूध से बड़ा क्लींजर कुछ भी नहीं है, जो कि शीघ्र से शीघ्र शरीर में स्थित मेल को खींच लेता है। इसलिए वर्तमान में सबसे महंगा milk कलिंजर होता है। जिसका उपयोग ब्यूटी पार्लर में मेंस ब्यूटी पार्लर में विवाह संस्कार में और विभिन्न विभिन्न जगह उपयोग में लाया जाता है कभी भी यह नहीं कहा जाता है,आप ध्यान दीजियेगा इस विषय में कि पालर्स में जब भी उच्च गुणवत्ता से चेहरे की सफाई की बात होती है तो साबूनो से क्लींजिंग किया जाए , ऐंसा वे कभी भी नही विचार करते । पार्लर्स में ही नही वैज्ञानिक शोध में भी स्पष्ट हो चुका है,मिल्क की क्लींजिंग की जाए,इसलिए गाय के दूध का उपयोग कीमती है।

         बड़ा दुख होता है कि भारतीय व्यवस्था में विदेशी कंपनीयां भिन्न-भिन्न तरह के विज्ञापनों में प्रस्तूति से अपने क्रीम,अपने पाउडर अपने फेस पैक सब में दूध को शामिल करके भारतीय जनमानस के मन में यह विषय रखती है कि उनकी ही क्रीम है,जो भारतीय लोगों को सुंदरता प्रदान कर सकती है। लेकिन यह कंपनियां कभी भी सीधे दूध के उपयोग के महत्व को सीधे नहीं कहती हैं। यह आज भारतीय जनमानस को समझने की आवश्यकता है। 

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

         भारतीय स्नान पद्धति, भारतीय पूजन पद्धति में दूध से स्नान को श्रेष्ठता प्रदान की गई है भारतीय मानस की भाव की शक्ति ऐंसी है कि " हम महाशिवरात्रि के समय,जन्माष्टमी के उत्सव के समय ही नही अन्य सभी भारती उत्सवों में अपने भगवान को दूध से स्नान करवाते हैं और उसमें भाव यह रहता है जिससे benefits of cow's milk.यह है,कि हमारे भगवान स्वच्छ और सुंदरता से परिपूर्ण हो जाएं।"use of cow's milk लेकिन हम यह भूल ही जाते हैं कि जैसे हम भगवान को स्नान करवा रहे हैं वैसे हम खुद को भी स्नान करवा सकते हैं। 

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

          बड़ा आश्चर्य होता है यह देख ! कि भगवान की प्रतिमा को तो दूध से स्नान करवाते हैं लेकिन स्वयं दूध से स्नान नहीं करते हैं,भगवान को दूध से बना पंचामृत सेवन करवाते हैं। लेकिन स्वयं पंचामृत हम कम ही सेवन में लेते हैं जितना अच्छा दूध से बना हुआ और वह भी भारतीय देसी गाय के दूध से बना हुए उत्पादो को हम भगवान के सम्मुख रखते हैं लेकिन स्वयं को अधिकतर इन उत्पादों से दूर ही रखते हैं क्यों??? यह बहुत बड़ा प्रश्न है ??? 

          आगे आने वाले विषयों में यह बात बिल्कुल स्पष्ट हो जाएगी की भारतीय देशी गाय का दूध में प्रकृति के श्रेष्ठतम तत्वों का योग है,use of cow's milk,benefits of cow's milk.

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

भारतीय देशी गाय के दूध का रहस्य (Mistry of Cow's milk)

300 मिलीलीटर भारतीय गाय के दूध के एक ग्लास के उपयोग में करीब 350 मिलीग्राम कैल्शियम होता है, जो तीन साल तक के बच्चों की दैनिक ज़रूरत का आधा है।

अब विस्तार से जानते हैं इन बिंदुओं को :- 

  • दूध के बारे में तथ्य(Facts about milk)
  • दूध की संरचना (milk composition)
  • भारतीय गाय के ताजा दूध का लाभ (cow first milk benefits in hindi)
  • गाय के दूध के फायदे(dudh ke fayde)

  • गाय के दूध का उपयोग (use of milk)
  • जीवन मे स्नान के लिए लाभदायक होता है भारतीय गाय का दूध(gay ka dudh se snaan me labhdayak hota hai)
  • गाय के दूध से लाभ (cow milk benefits)milk ke fayde in hindi (10 benefits of milk)

  • गाय के दूध से हमारी त्वचा में फायदा(milk ke fayde for skin)
  • रात में गाय के दूध में लाभ (benefits of milk at night in hindi)
  • गाय के दूध की विशेषता (doodh ki visheshta)
  • देसी गाय के दूध का महत्व(importance of desi milk)
  • गाय के दूध का त्वचा में लाभ (benefits of cow milk for skin)

गाय का दूध का उपयोग जरूर कीजिये क्योंकि गाय के दुग्ध में निम्न तत्व शामिल होते है:- दूध की संरचना (milk composition)

पोषक मूल्य प्रति 100 ग्रा.(3.5 ओंस)
उर्जा 60 किलो 
कैलोरी   250 kJ
कार्बोहाइड्रेट    5.26 g
शर्करा 5.26 g  
लैक्टोज़                5.26 g,  
वसा                     3.25 g,
संतृप्त                1.865g,
एकल असंतृप्त    0.812 g,
बहुअसंतृप्त        0.195 g,
प्रोटीन                3.22 g,
पानी                88.32 g,
विटामिन A equiv.                28 μg 3%
थायमीन (विट. B1)                0.044 mg 3%
राइबोफ्लेविन (विट. B2)    0.183 mg 12%

विटामिन B12                0.44 μg  18%
विटामिन D                    40 IU20
कैल्शियम                              113 mg11%
मैगनीशियम                            10 mg3% 
पोटेशियम                              143 mg  3%

दूध के बारे में तथ्य(Facts about milk)

क्या आप जानते हैं बार बार दूध गर्म करने से उसमें प्रोटीन की मात्रा कम हो जाती है????

    दूध को गर्म करने पर कुछ प्रोटीन फट जाते हैं, दूध में जलने की गंध आती है, विटामिन बी एवं सी खत्म हो जाती है तथा इस प्रकार के दूध के रख रखाव में अति सावधानी बरतनी पड़ती है।

दूध को कैसे पैक किया जाता है जिससे वह लंबे समय तक सुरक्षित रहे ।

होमोजिनाइजन प्रक्रिया को जानते हैं

दूध की प्राप्ति

दूध को 5 डिग्री सेल्सियस ठंढा करना

दूध को एक जगह इक्ट्ठा करना

दूध का स्टैण्डड्राईजेशन

दूध को छानना

दूध का होमोजिनाइजेशन 60 डिग्री सेल्सियस तथा 2500 पौंड प्रति वर्ग इंच के दवाब से निकालना

दूध का निरोगन 72 डिग्री सेल्सियस पर (15 सेकेण्ड पर)

दूध को भरना तथा पैकेट या बोतल में बंद करना

दूध को ठंढ़ा करना (5 डिग्री सेल्सियस तक)

दूध का सुरक्षित रखना (5 डिग्री सेल्सियस ताप पर)

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

आएये आगे जानते हैं कि क्या आप जानते हैं पृथ्वी के अमृत के समान है : गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

        वर्तमान की चलन में लोगों की भागम भाग वाले जीवन में गो दूध से निर्मित पाउडर जो दूध पाउडर के नाम से बाजार में मिलता है उसका उपयोग किया जा रहा है अथवा गाय के दूध से सार तत्त्व निकाला हुआ या गाढ़ा माना जानेवाला भैंस का दूध पीने का चलन बढ़ता चल रहा है,इसलिए मनुष्यों की बुद्धि भी भैंस की बौद्धिक क्षमता के अनुसार बुद्धि बनती जा रही है।But this resion use of cow's milk.अब तो वैज्ञानिकों ने भी धीरे धीरे ही सही स्वीकार किया है कि गाय का दूध अमृत के समान है व अनेक रोगों का स्वतःसिद्ध उपचार है। गाय का दूध के उपयोग करने से किशोर,किशोरियों की सम्पूर्ण शरीर की लम्बाई व पुष्टता उचित मात्रा में विकसित होती है, हड्डियाँ भी मजबूत बनती हैं एवं हर सम्भव बौद्धिक क्षमता का विलक्षण विकास होता है।

गाय के दूध में शोध

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

       भारतीय नस्ल की हर गाय की रीढ़ में ईश्वरीय प्रदत्त सूर्य केतु विशेष नाड़ी होती है। जब इस पर सूर्य की किरणें पड़ती हैं तब यह नाड़ी सूर्यकिरणो से सुवर्ण के सूक्ष्म कणों का निर्माण करती हैं। 
यही तो आश्चर्य है,use of cow's गाय के दूध में,मक्खन में तथा घी में यही पीलापन दूध की गुणवत्ता को चारचांद लगा देता है। यह पीलापन शरीर में उपस्थित विष को समाप्त कर वे असर करने में लाभदायी सिद्ध होता है। 

क्या आप जानते हैं ???

     1   गो दूध का नित्य सेवन अंग्रेजी दवाओं के सेवन से शरीर में उत्पन्न होनेवाले दुष्प्रभावों (साईड इफेक्ट्स) का भी शमन करता है।
    2   'अमीनो एसिड' नाम की प्रोटीन की इकाई गोदुग्ध में  प्रचुर मात्रा में होने से यह सुपाच्य तथा चरबी की मात्रा कम होने से 'कोलेस्ट्रोल' रहित होता है। 
    3  'सेरीब्रोसाइड्स' भी गाय के दूध में उपस्थित होता है जो मस्तिष्क को ताजा रखने एवं बौद्धिक क्षमता बढ़ाने के लिए उत्तम टॉनिक का निर्माण करते हैं। 

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

    4  गाय के दूध को dudh ke fayde आण्विक विस्फोट से उत्पन्न विकिरण के शरीर पर पड़े दुष्प्रभाव को शमन करने में उपयोग में लिया जा सकता है... एक शोध में रूस के वैज्ञानिकों ने यह पाया।
    5  MDGI प्रोटीन शरीर की कोशिकाओं को कैंसरयुक्त होने से बचती है जो कि गाय के दूध में उपस्थित है यह कहना है,कारनेल विश्वविद्यालय में पशुविज्ञान विशेषज्ञ प्रोफेसर रोनाल्ड गोरायटे का। 
     6 benefits of cow's milk पर अनेक देशों में और भी नये-नये परीक्षण हो रहे हैं, तथा सभी परीक्षणों से इसकी नवीन विशेषताएँ प्रकट हो रही हैं।  

     benefits of cow's milk. को देखते हुए  धीरे-धीरे वैज्ञानिकों की समझ में आ रहा है कि भारत के आयुर्वेद के चिंतकों ने व ऋषियों ने गाय को माता, तथा पूजनीय क्यों कहा है??

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

पंचामृत स्नान पद्धति,(Pnchamrit Baith)

        पन्चामृत स्नान भारत में प्राचीनतम स्नान पद्धतियों में से एक हैं। जिसमें दूध से बने हुए पदार्थों को शामिल किया जाता है, पंचामृत में दूध,दही,घी, शहद और चीनी को शामिल किया जाता है। दूध का उपयोग होते हुए,ये पांच प्रकार जब चांदी या कांस्य के विशेष पात्र मे मिलाये जाते हैं,तब पन्चामृत का जन्म होता हैं।गाय के दूध का उपयोग करने से पहले जानते हैं,इससे निर्मित पंचामृत से संपूर्ण रुप से शरीर का स्वास्थ आंतरिक और बाह्य रूप से रोग मुक्त हो जाता है।
पंचामृत बनाने की विशेष विधि में निम्न बातों का विशेष ध्यान रखना होता है :- 

 1) पंचामृत निर्माण पद्धति में चांदी या कांस्य  की धातु के पात्रों का प्रयोग किया जाना आवश्यक है।
 2) हमें याद रखना होता है की पन्चामृत का निर्माण सूर्य अस्त के पहले से ही किया जाना चाहिए।
 3) जब भी दूध का चयन हो तो उसमें भारतीय देशी गाय के दूध को पंचामृत चयन पद्धति में शामिल किया जाता है। इस पन्चामृत चयन पद्धति में भारतीय देशी गाय के दूध से निर्मित, दही फिर घी की शुद्धतम स्थिति को ध्यान में रखकर चयन किया जाता है।
4) अंतिम रूप से पन्चामृत चयन पद्धति में अंत मे सभी पांच तत्वों का निर्धारित अनुपातीय चयन किया जाता है। जिसमें :-दूध से कम दही,दही से कम घी,घी से कम शहद,शहद से कम शक्कर को शामिल किया जाता है।

       इस तरह से सम्पूर्ण पांच तत्वों को मिलाकर पन्चामृत तैयार किया जाता है,तैयार करते समय विशेष ध्यान दिया जाता है कि पाँचों अमृत एक रस हो जाएं। अर्थात उन्हें अलग-अलग न किया जा सके। तब ही पन्चामृत निर्माण पूर्ण हुआ,और वह भगवान के साथ-साथ मनुष्यों के स्नान,सेवन की विधि के अनुकूल होता है।

पंचामृत स्नान के फायदे (Benefits of pnchamrit baith)

    1)दूध से निर्मित पदार्थों के योग से बना पंचामृत मनुष्य को दैहिक,दैविक,भौतिक ताप नष्ट कर सौंदर्य प्रदान करता है।

    2)दूध,शहद इत्यादि पदार्थों के योग से बना पंचामृत चेहरे में निखार लाता है, शरीर के हर हिस्से को चमकदार और अदृश्य शांति से भर देता है।

     3)पंचामृत स्नान कील, मुंहासे और त्वचा के रोम छिद्रों में जमने वाला मेल सब कुछ साफ कर देता है।कुछ दिन के प्रयोग से त्वचा में चिकनापन आने लगता है।

     4)जिस दिन से व्यक्ति पन्चामृत स्नान करता है,उसी दिन से व्यक्ति के चेहरे में निखार और संपूर्ण शरीर में शुद्धिकरण होना प्रारंभ हो जाता है।
          इसलिए cow's milk से निर्मित पन्चामृत स्नान हर महीने में कुछ 7 दिन जरूर करें,स्वयं को पंचामृत स्नान कराकर फिर अपने भगवान को पंचामृत से स्नान करावें , क्योंकि भारतीय स्नान पद्धति में भक्त और भगवान को एक ही विधि से स्नान करवाया जाता है।।

      5)पंचामृत सेवन से आध्यात्मिक शांति प्राप्त होती है। मस्तिष्क में शीतलता का जन्म होता है, कुछ दिन निर्धारित मात्रा में नियमित सेवन करने से गुस्से में भी कमी आने लगती है सकारात्मक भाव का जन्म होता है।

       6)पंचामृत सेवन निर्धारित मात्रा में 21 दिन किया जाए तो शरीर तंदुरुस्त होता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

        7)पंचामृत के सेवन से जोड़ों के दर्द से होने वाली परेशानियां का खात्मा भी हो जाता है कुछ दिन नियमित सेवन करने से पंचामृत से जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है ।

         8)पाचन से संबंधित परेशानियों को बहुत हद तक ठीक करने के लिए भी पंचामृत बड़ा उपयोगी सिद्ध होता है।

          9)कब्ज और अम्लता जैसी समस्याओं के निदान में भी पंचामृत लाभ पहुंचाता है।

पंचामृत स्नान और सेवन में रखें सावधानियां

         1)पन्चामृत से रात्रिकाल में स्नान न किया जाए तो उचित कभी गर्मी की ऋतु छोड़।

         2) पंचामृत के सेवन के लिए एक या दो चम्मच का उपयोग हम कर सकते हैं इससे ज्यादा का सेवन हमारे लिए नुकसानदायक हो सकता है।

         3)पंचामृत के सेवन से शरीर तो पुष्ट होता ही है, लेकिन अधिक सेवन से शरीर को भिन्न-भिन्न बीमारीयों का सामना करना पड़ता है। इसलिए पंचामृत निर्धारित मात्रा से ज्यादा मात्रा में उपयोग में ना लें ।

          4)पंचामृत 1 दिन से ज्यादा उपयोग में नहीं लेना चाहिए,पंचामृत ताजा भगवान को चढ़ा हुआ अत्यंत ही उपयोगी होता है।

           5)पंचामृत स्नान के समय हम ताजा पंचामृत का ही उपयोग करें 1 दिन पूर्व से रखे हुए,पंचामृत से स्नान ना करें।

           6)ताजे पंचामृत से शरीर में कांति आती है। लेकिन पुराने रखे हुए , 1 दिन बाद के पंचामृत से शरीर को हानि उठानी पड़ सकती है इसलिए इसका विशेष ध्यान दें।

आइए अब जानते हैं सुंदरता बढाने के एक से एक बढ़कर दूध का उपयोग और दूध और अन्य पदर्थों के योग से निर्मित पैक,और सूत्र(टिप्स)

क्या आप चाहते हैं कि आपका चेहरा चमकदार हो??
क्या आप चाहते हैं कि आपके शरीर के हर हिस्से में रूखापन समाप्त हो ?? 
झुर्रियां,कील मुहासों का नामों निशान मिट जाए ।
आपका शरीर चमक उठे,दमक उठे जहां आप जाएं सारे लोग आपको ही देते रहें। 
इस तरह की सुंदरता यदि आप चाहते हैं तो आइए देखते हैं ।

   भारतीय गाय के दूध का उपयोग और दूध और अन्य पदार्थों के योग से निर्मित अत्यंत ही उपयोगी सूत्र जो आपके संपूर्ण शरीर को प्राकृतिक रूप से सुसज्जित करने चमक-दमक से बढ़ाने हेतु मददगार होंगे।

       चेहरा सहित सम्पूर्ण शरीर चाहे वह स्त्री का हो या पुरुष का दुनिया में सबसे बड़ा यदि कोई क्लीन्जर है जो कुछ ही मिनट के अंदर ही सम्पूर्ण शरीर को साफ कर सकता है चाहे आप पार्लर जाएं, चाहे आप घर में ही उपयोग करें तो वह है milk clinger अर्थात दूध से सफाई करना milk ke fayde in hindi
use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

आगे है :-How to use of cow's milk,

दूध से त्वचा को साफ करने का एक बहुत ही अद्भुत प्रयोगों की श्रंखला प्रारम्भ हो रही है आइये पूरे उत्साह से पढ़ें ------

प्रयोग सामग्री :- 

कच्चा दूध 3 बड़ा चम्मच,(cow first milk benefits in hindi)
2 अलग -अलग रुई का फोहा

विधि :- 

गाय के दूध का उपयोग ऐंसे ही करें ,जैसे कि एक चम्मच दूध की कटोरी में रुई के फोहे को डुबाकर रुई के फोहे से चेहरे पर लगाएं और यदि आप चाहते हैं कि शरीर को भी स्वछ किया जाए तो उपरोक्त विधि से थोड़ी ज्यादा मात्रा में शरीर पर लगायें। 

         फिर करीब 15 मिनेट रुकें और ठीक 15 मिनट के बाद दूसरी साफ रुई से पुनः चेहरे को साफ करें।
चाहे तो cow's milk के इस प्रयोग को नियमित भी कर सकते हैं।
आप चाहे तो यह सुबह उठकर कर भी कर सकते हैं।     
शाम को या रात को भी सोने से पहले कर सकते हैं।         

      गाय के दूध का उपयोग उपरोक्त विधि से करने के बाद यदि ऐसा लगे कि चेहरा धो लेना चाहिए, तो साफ जल से चेहरा या शरीर को पानी से धो सकते हैं।

परिणाम :-  benefits of cow's milk.

1) चेहरे में चमक बढ़ती जाती है।
2)पहले से ज्यादा चेहरा खूबसूरत हो जाता है।
3) चेहरे के प्रदूषित मेल का जमाव समाप्त हो जाता हैं,और अलग ही आकर्षण पैदा होता है जो सामान्यतः ऐंसे चेहरे लोगो के मध्य आकर्षण का केंद्र रहते हैं और सुंदर चेहरा उनको आनंदित भी बहुत करता है।

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

बेसन और दूध से आपके सौंदर्य को निखार ने के लिए कुछ सूत्र
Milk and Besan for glowing skin in hindi


अब चेहरे में दाग धब्बे झाइयां होंगी दूर, 
  ध्यान से पढिये ---) जिसके पास होगा बेसन और दूध।।

प्रयोग विधि :- 

आधी कटोरी से कम दूध में 1 चम्मच बेसन डालें 
और
दोनों को एक अन्य चम्मच से अच्छी तरह से मिला लें,
फिर चेहरे को साफ जल से धो लें,पोंछें। 
फिर चेहरे पर मिला हुआ दूध बेसन लगा लें। 
इसके बाद 15 से 30 minut के बाद गुनगुने जल से स्वच्छ कर लें। 
फिर चेहरे को पोंछें ,आप देखेंगे की ऑयली स्किन में तुरन्त बदलाब होता है।
use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

मलाई और बेसन का प्रयोग

benefits of cow's milk,यह है कि

चेहरे का रंग निखर गया,  

       अब सुंदरतम होगा स्वरूप,

बस इतना करिये मित्र , 2 चम्मच मलाई में, 

       एक चम्मच बेसन को कटोरी में डालिये जरूर। 

बेसन और मलाइ को आपस मे मिलाइये, 

       ऐंसा मिलाइये की कमाल हो जाये,  

वे एक रस हो जाएं।

धीरे-धीरे चहरे पर ऐंसा लगाइये,
          कि नीरश चेहरा भी खुश हो जाये।


15 से 30 मिनट के बाद धोकर  

अपना चेहरा शीशे में देखिए जी,

कहीं ऐंसा न हो जाये कि,
         खुद को देखकर, खुद पर ही फिदा हो जाएं।

इसलिए ध्यान रखियेuse of cow's milk,

प्रयोग विधि :- 

पेश है सर्दियों में कमाल का असरदायक पैक(Face Pack for Dry Skin)

सामग्री :- 

2 चम्मच दूध, 
1 चम्मच शहद, 
1 चुटकी हल्दी छोटी सी कटोरी।

विधि :- 

       सर्वप्रथम दूध शहद और एक चुटकी हल्दी को किसी बर्तन में मिलाकर पेस्ट बना लें फिर इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर 15 से 20 मिनट के लिए रखें ।
        जब यह पेस्ट सूख जाए तब इसे गुनगुने पानी से धो लें।

परिणाम :- 

      यह पैक त्वचा को प्राकृतिक नमी देता है। और benefits of cow's milk यह है कि यह त्वचा में निखार लाता है ।

सावधानियां :-       

       परंतु जिनकी त्वचा तैलीय है वह महिलाएं या पुरुष बेसन में दूध की बजाय दही और गुलाब जल को मिलाकर फेस पैक बनाएं, इसे चेहरे का सारा तेल निकल जाएगा और त्वचा का रंग खिलकर निकलेगा ।

दूध से मुंहासे दूर करने के लिए (Protect from Acne)

प्रयोग समाग्री  :-

 1 चम्मच बेसन ,
आधा चम्मच चन्दन पाउडर,
 हल्दी 2 या 3 चुटकी

 प्रयोग विधि :- 

      स्त्री हो या पुरुष सभी के चेहरे में मुंहासे तो होते ही हैं जो चिंता का विषय होते हैं इन मुहांसों को दूर करने के लिए 
आपको एक चम्मच बेसन  आधा चम्मच चंदन पाउडर और दो चुटकी हल्दी को किसी एक बर्तन में पेस्ट बनाकर रख लें ।
         इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर 20 मिनट के लिए रखें जब यह सुख जाए तो अपना चेहरा गुनगुने पानी से धो लें।
कुछ दिन नियमित करें।

विशेष जानकारी :-

बेसन में शहद मिलाकर लगाने से भी मुहांसों की समस्या से आराम मिलता है।

        चाहें तो एक ओर प्रयोग कीजिये आप बेसन में खीरा डालकर भी चेहरे पर लगा सकते हैं इससे आपके चेहरे पर खुले रोम छिद्र भी दूर हो जाते हैं इस पेस्ट को आपकी त्वचा पर लगाकर सूखने के बाद ठंडे पानी से धो लें । यह आपकी त्वचा साफ रखने में बहुत फायदेमंद है।

 नाखूनों की सुंदरता के लिए (beutifull use For nail)

प्रयोग विधि :-  

         सर्वप्रथम गाय के दूध का उपयोग इस प्रकार कीजिये only for Cow's Milk,दूध में जो कि कच्चा दूध होगा उसमें नाखूनों को भिगो कर रखें हाथ मुलायम करने के लिए दूध में नींबू का रस मिलाकर हाथों पर लगाएं ।

परिणाम :- 

          benefits of cow's milk यह होगा कि आपके नाखून साफ तो होंगे और हाथ भी मुलायम हो जाएंगे। 
use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

फटे होंठों के लिए (For lips)

प्रयोग विधि:-

         यदि आपके होंठ काले हैं तो use of cow's milk कच्चा दूध होठों पर लगाएं । इससे आपके होठों का कालापन दूर हो जाएगा।
         यदि आपके होंठ फटे हैं, तो आप रात को सोने से पहले दूध की मलाई में एक बूंद गुलाब जल और एक बूंद नींबू का रस मिलाकर अपने होठों पर लगा लें।

परिणाम :-  

benefits of cow's milk यह होगा कि ओंठों का कालापन और
इससे आपके फटे होठों से आराम मिलेगा।

बालों के लिए (For Hairs)

प्रयोग विधि:- 

अब स्त्री और पुरुष के बाल होंगे, 

                मुलायम और रेशम, 

  बस अब दूध से सिर के बालों की, 

         करिये स्वयम के हाथों से हल्की-हल्की रगड़न।

फिर 20 मिनेट के बाद बालों को धोइये भूल जाइए,

           कोई भी शेम्पू,इस जीवन।।

use of cow's milk, गाय के दूध का उपयोग,benefits of cow's milk.
use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

Use of oats and milk

प्रयोग विधि :- 

          इस पैक को बनाने के लिए 2 चम्मच ओट्स में 1 चम्मच गुलाबजल और 1 चम्मच शहद मिला लें।
इस पेस्ट को 10 मिनट तक चेहरे पर लगाएंं।

         गाय के दूध का उपयोग और oats अर्थात जई के फेस पैक को लगाने से त्वचा की रंगत निखर जाती है और चेहरा बेदाग हो जाता है।

ओटमील, दूध और नींबू का प्रयोग

         फेसपैक को बनाने के लिए दो चम्मच ओट्स में एक चम्मच शहद और only for use of cow's milk थोड़ा सा कच्चा दूध मिला लें।
          इसे अच्छे से मिलाकर इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाए और जब आपको लगे कि पैक सूख गया है तो अपने चेहरे को अच्छे से धो लें।

      अब इस प्रयोग से benefits of cow's milk, ओटमील, और नींबू के योग से यह होगा कि कमाल कर दिया दूध ने चेहरा क्या रोम रोम में निखार  ला दिया। दमकता हुआ face

Night skin care: यदि सुबह चाहिए खूबसूरत त्‍वचा, तो रोज रात में चेहरे पर लगाकर करें गाय के कच्चे दूध का उपयोग।

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.
दूध से चेहरे की कांति बढाएं
      दूध केवल सेहत के लिए ही अच्‍छा नहीं होता बल्‍कि यह हमारे चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद होता है। यदि आप दूध को रातभर के लिए चेहरे पर लगाए रखती हैं,या रखते हैं। तो विश्वास कीजिये कि आपको किसी महंगी क्रीम या लोशन की जरूरत नहीं पड़ेगी।So use of cow's milk,and get benefits of cow's milk.
      कच्‍चा दूध जितना असरदार दिन में नहीं होता, उससे कहीं ज्‍यादा चेहरे पर रात में लगाने से होता है। 

"भारतीय कच्चे दूध में लैक्‍टिक एसिड पाया जाता है जो रातभर आपकी स्‍किन को रिपेयर करने का काम करता है।"

Do you know the benefits of cow's milk, it changes the complexion in the skin . त्वचा पर उम्र के प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है। इसलिए में लिखती हूँ ।दूधो नहाओ पूतो फलो।

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग benefits of cow's milk.

दूध से इस तरह से फायदा अनेक हैं (gay ke dudh ka phayda)

         देशी गाय के दूध को अब तो जान ही लीजिए।

प्रतिमा ही क्या, इंसान भी चमक उठेगा

         दूध का उपयोग तो करिये।

छोड़ो साबून और क्रीम,इसनो,पाउडर,बनो जानकार 

         न मानो किसी की तो दूध से नहाओ एक बार।।

मन की शांति तन की कांति,सब तरफ से आएगी खुशी,

         ऐंसी दमकेगी त्वचा की दूसरे कहेंगे कि वाह क्या बात है,
 पता है आप यह सुन आप आनन्दित हो जाओगे।

अब तो गोशाला की गो की संख्या बढ़ेगी,
         आप के स्नान विधान देख कर ,
 आने वाली पीढ़ी भी दूध से नहाएगी।।

अब दूध के मूल रहस्य को समझ लीजिए,

न आये समझ तो इस पोस्ट को 1 से ज्यादा बार जरूर पढिये ।।

use of cow's milk,दूधो नहाओ पूतो फलो, गाय के दूध का उपयोग,benefits of cow's milk.

नोट :- अगर आपको यह लेख पसंद आया है तो इसे शेयर करना ना भूलें और मुझसे जुड़ने के लिए आप मेरे Whatsup group में join हो और मेंरे Facebook page को like  जरूर करें।आप हमसे Free Email Subscribe के द्वारा भी जुड़ सकते हैं। अब आप  instagram में भी  follow कर सकते हैं ।

लेख पढ़ने के बाद अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करायें।नीचे कमेंट जरूर कीजिये, आपका विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण है।

गाय के दूध का उपयोग | benefits of cow's milk.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

अन्नपूर्णा स्त्रोत |अन्नपूर्णा स्त्रोत के लाभ | annapurna stotram lyrics